Latest Posts

अब गोबर से बनी ईंटो के उपयोग से बनेंगे मकान,गरमी में सर्दी और सर्दियों में गर्मी के जैसा होगा ऐसा अहसास

अभी तक तो आपने मिट्टी और सीमेंट बनी इटो की बात सुनी होगी लेकिन कभी आपने गाय के गोबर से बनी इटो का नाम नहीं सुना होगा। लेकिन आज हम आपको गाय के गोबर से बने इंटों के बारे में बताने वाले हैं।

अब गौशालाओं को आत्मनिर्भर बनाने के मकसद से फिरोजाबाद में गायों के गोबर से ईंटों का निर्माण हो रहा है।बहुत जल्द ही इन ईंटों को बाजार में बेचा जाएगा। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार ऐसे इंटों के निर्माण होने से गाय के गोबर का मांग बढ़ेगा और साथ ही साथ में थी की खपत भी कम होगी।

दावा किया जा रहा है कि इन ईंटों से जो मकान बनेंगे, वह गर्मी में सर्दी और सर्दियों में गर्मी का एहसास कराएंगे।

गोबर की ईंट के बारे में जानकारी देते कारोबारी ओमकार विजकारोबारी ओमकार विज गाय का गोबर खरीदकर उससे ईंटों का निर्माण करा रहे है।

ओमकार विज का मानना है कि उनके इस कदम से जहां गौशालाओं की आमदनी बढ़ेगी। बता दे कि उच्च गुडवता वाला ईंट कम पैसे में लोगों को आसानी से मिल जाएंगे।

ओमकार विज ने बताया कि गौशालाओं की दुर्दशा और उनकी कोई आमदनी न होने के कारण उनके मन मे यह विचार आया है. वह गौशालाओं से गोबर खरीदकर लागत मूल्य पर इन ईंटों की बिक्री करेंगे, जिससे गौशालाएं आत्मनिर्भर बन सकेंगी।

उन्होंने बताया कि सबसे पहले वह खुद ही अपने फार्म हाउस में इन ईंटों से कुछ कमरे बनवाएंगे। ओमकार ने बताया कि पुरानी पद्धित पर गोबर के ईंटो को तैयार किया जाता है. गोबर, चूना और मिट्टी मिलाकर इस ईंटों को तैयार किया जा रहा है.

ग्राहक धीरेंद्र शर्मा का कहना है कि हमें जानकारी मिली थी कि यहां गाय के गोबर से ईंटों का निर्माण हो रहा है. इसलिए, वह इन ईंटों को देखने के लिए आए है. अच्छी लगेंगी तो वह खरीद भी सकते है. आपको बता दें कि गाय के गोबर से अब तक कई वस्तुओं का निर्माण होता था. लेकिन, ईंटों का निर्माण अपने आप में एक नया प्रयोग है।

Latest Posts

Don't Miss