Latest Posts

गड्ढों वाली सड़क के लिए विख्यात उत्तर प्रदेश में अब बन रहे हैं कई एक्सप्रेस वे,जानिए कैसे बदल गई यूपी की सूरत

कुछ समय पहले की बात है जब उत्तर प्रदेश के गड्ढों वाली सड़कों के नाम से जाना जाता था लेकिन आज उत्तर प्रदेश में देश के सबसे ज्यादा एक्सप्रेस-वे का निर्माण कार्य किया गया है।यह प्रदेश 13 एक्सप्रेसवे के साथ देश की एक्सप्रेसवे राजधानी बनने की राह पर है।

इनमें से छह एक्सप्रेसवे पूरे हो चुके हैं, जबकि सात निर्माणाधीन हैं।

कनेक्टिविटी में सुधार के लिए बड़े पैमाने पर काम-

रविवार के दिन प्रधानमंत्री मोदी को दिल्ली से जुड़ने वाले छात्रों के सामने किलोमीटर लंबे बुंदेलखंड
कोयन। इस एक्सप्रेस वे का उद्घाटन होने से लोगों को अब दिल्ली से चित्रकूट का सफर काफी कम समय में पूरा करने का मौका मिलेगा। राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रयासों से उत्तर प्रदेश का कायाकल्प हुआ है।

यह चित्रकूट, बांदा, महोबा, हमीरपुर, जालौन, औरैया और इटावा जैसे क्षेत्र के पिछड़े जिलों को जोड़ेगा। एक सरकारी प्रवक्ता के अनुसार, ‘यह बुनियादी ढांचा अर्थव्यवस्था का विकास इंजन है और सड़कें प्रगति का दर्पण हैं।

आपको बता दें कि यह एक्सप्रेसवे दूरदराज के क्षेत्रों को जोड़ेगा और साथ ही साथ उत्तर प्रदेश के विकास में भी काफी ज्यादा सहायक होगा।इस एक्सप्रेस वे का निर्माण कार्य पूरा होने से एक तरफ जहां व्यापार में बढ़ोतरी होगी वहीं दूसरी तरफ रोजगार के अवसर भी उपलब्ध होंगे।

यूपी में कुल 1,788 किलोमीटर एक्सप्रेसवे का नेटवर्क होगा
यमुना एक्सप्रेस-वे, जिसका निर्माण 2012 में पूरा हुआ। आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे, जो 2018 में जनता के लिए खोला गया। राज्य में चार नए एक्सप्रेसवे, जिनमें 340 किलोमीटर पूर्वाचल, 296 किलोमीटर बुंदेलखंड, 91 किलोमीटर गोरखपुर लिंक और 594 किलोमीटर लंबे गंगा एक्सप्रेसवे शामिल है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के शपथ ग्रहण के बाद यूपी में लगातार विकास हो रहा है।

Latest Posts

Don't Miss