ट्रेन से भी कम होगा रैपिड रेल का किराया,2023 तक UP के लोग करेंगे मिनी बुलेट ट्रेन का सफर,जून में बिछेगा पहला सेट

भारत में चलने वाली पहली रैपिड रेल को मिनी बुलेट ट्रेन कहे तो गलत नहीं होगा। रैपिड रेल बुलेट ट्रेन की स्पीड से चलेगी और इसका किराया भी अधिक नहीं होगा। इस ट्रेन में सामान्य लोग भी आसानी से यात्रा कर पाएंगे और कम समय में लंबी दूरी तय कर पाएंगे।

कानपुर से लखनऊ की दुरी कम होने वाली है।लखनऊ से कानपुर से यात्रा इस रैपिड रेल के शुरू होने से सुविधाजनक हो जाएगी।

इन शहरों के बीच रैपिड रेल ट्रांजिट परियोजना (RRTS) चलाने का प्रस्ताव तैयार हो गया है। आपको बता दें कि इस case study के लिए मुख्य सचिव आवास दीपक कुमार ने वर्चुअल बैठक करके इसका रिक्वेस्ट फॉर प्रपोजल (RFP) तैयार करने का आदेश दे दिया हैं।

बता दें कि यूपी मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के प्रबंध निदेशक को इसके लिए आदेश दिया गया है।बता दे की जल्द शासन के द्वारा एक बैठक का आयोजन होगा।कानपुर से लखनऊ के बीच रैपिड रेल चलने से बहुत कम समय में कानपुर से लखनऊ की दूरी तय हो जाएगी।यह ट्रेन 180km/h से चलेंगी।

जीटी रोड होगी एलिवेटेड-

मंगलवार को कमिश्नर डॉ. राजशेखर की अध्यक्षता में कानपुर के विकास को लेकर उच्चस्तरीय संयुक्त विकास समिति की बैठक हुई। इसमें कानपुर के विकास को लेकर भी कई तरह की चर्चाएं की गई। कानपुर से राजधानी लखनऊ के बीच मेट्रो ट्रेन चलाने के लिए कई जगह अंदर ग्राउंड स्टेशन बनाए जाएंगे ताकि लोग आसानी से रैपिड रेल का सफर कर सके।

रैपिड रेल ट्रेन का जल्द ही निर्माण कार्य शुरू कर दिया जाएगा ताकि लखनऊ वासियों को काफी कम समय में यूपी के कई जिलों में यात्रा करने का मौका मिल सके। यह ट्रेन 180 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलेगी। यह ट्रेन चलने से लोगों को किसी भी तरह की परेशानी नहीं होगी और वहां आसानी से दूसरे शहर की यात्रा कर पाएंगे।