Latest Posts

नेपाल की पहाड़ियों में होने वाले भीषण बारिश के कारण गंडक नदी उफान पर,यूपी के इन गांवों में बढ़ने लगा है बाढ़ का खतरा

नेपाल की पहाड़ियों में पिछले 2 दिनों से भीषण बारिश हो रही है जिसका सीधा असर उत्तर प्रदेश में देखने को मिल रहा है। नेपाल की पहाड़ियों में होने वाली भीषण बारिश के कारण गंडक नदी उफान पर है।

गंडक नदी में अधिक पानी भर जाने से उत्तर प्रदेश के कई गांव में बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है और बाढ़ का खतरा मंडराने के कारण लोगों की परेशानियां बढ़ गई है।

मिली जानकारी के अनुसार वाल्मीकि गंडक बैराज पर बड़ी गंडक नदी का डिस्चार्ज बढ़ने लगा है। नदी का डिस्चार्ज 1 लाख 22 हजार से बढ़कर 1 लाख 32 हजार 900 क्यूसेक पर पहुंच गया। इससे नदी के जलस्तर में वृद्धि होने लगी है।

खड़ा रहता क्षेत्र के निचले इलाकों में रहने वाले लोग बाढ़ की आशंका के कारण भयभीत हो गए हैं और कई लोग तो अपना घर छोड़कर भाग भी रहे हैं।

छितौनी बांध के भैंसहा गेज पर नदी चेतावनी बिन्दु 95 मीटर के सापेक्ष 8 सेमी ऊपर बह रही है। दूसरी तरफ, नदी महदेवा के किसानों के खेतों में कटान करना तेज कर दी है। इससे किसान चिंतित नजर आ रहे हैं।

आपको बता दें कि नेपाल की पहाड़ियों में बारिश होने के कारण बूढ़ी गंडक नदी में पानी ज्यादा भर गया है जिसके कारण लोग काफी ज्यादा परेशान होने लगे हैं और कई लोग तो बाढ़ के खतरे को देखते हुए गांव छोड़कर जाने लगे हैं।

बड़ी गंडक नदी के जलस्तर में फिर वृद्धि होता देख खड्डा रेताक्षेत्र के निचले इलाके के ग्राम शाहपुर, मरिचहवा, बकुलादह, बसंतपुर, नारायनपुर, विंध्याचलपुर, बालगोविंद छपरा, हरिहरपुर में रहने वाले लोग बाढ़ को लेकर भयभीत हैं।

वहीं, नदी छितौनी बांध के संवेदनशील प्वाइंट स्पर-सी, हनुमागंज गांव के किमी 9.752 से टकराकर वीरभार ठोकर से सटकर बहते हुए महदेवा गांव के समीप किसानों के खेतों में कटान कर रही है। पूर्व प्रधान जितेंद्र कुमार, रामानंद, नरायन, जोखन, बाढ़ू, राजेन्द्र आदि ग्रामीणों का कहना है कि नदी ने अब गन्ना व धान की फसलों को काटना शुरू दिया है।

Latest Posts

Don't Miss