Latest Posts

यूपी के इस जीले मे 1071 करोड़ का निवेश करेगी ये कंपनी, हजारों लोगों को मिलेगा रोजगार

गोरखपुर औद्योगिक विकास प्राधिकरण (गीडा) में एक साथ अबतक का सबसे बड़ा निवेश होने जा रहा है। पेप्सिको की बाटलिंग कंपनी वरुण बेवरेजेस लिमिटेड की ओर से एक हजार 71 करोड़ 28 लाख रुपये के निवेश का प्रस्ताव दिया गया है। कंपनी ने 60 एकड़ जमीन की मांग की थी लेकिन अभी 45 एकड़ जमीन उपलब्ध है। इस बाटलिंग प्लांट के लगने से पूर्वांचल के औद्योगिक विकास की सूरत बदल जाएगी।

गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस वे के किनारे औद्योगिक गलियारे में लगेगा प्लांट

गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस वे के किनारे औद्योगिक गलियारे में (नरकटहा गांव) में यह जमीन दी जा रही है और गीडा ने जमीन का पैसा जमा करने के लिए कंपनी को पत्र भी लिख दिया है। एक सप्ताह के भीतर जमीन आवंटित कर दी जाएगी। उम्मीद जताई जा रही है कि एक महीने के भीतर ही कंपनी बाटलिंग प्लांट स्थापित कराने के लिए भूमि पूजन भी करेगी।

15 सौ से अधिक लोगों को मिलेगा रोजगार

तीसरे ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी में वरुण बेवरेज की ओर से उत्तर प्रदेश में दो हजार करोड़ रुपये के निवेश की घोषणा की गई थी। इसमें से 1071.28 करोड़ रुपये गीडा में ही निवेश किए जा रहे हैं। इस निवेश से 1500 लोगों को रोजगार मिल सकेगा। वरुण बेवरेजेस लिमिटेड संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएसए) के बाहर पेप्सिको की दूसरी सबसे बड़ी बाटलिंग कंपनी है।

फास्ट ट्रैक माध्यम से आवंटित होगी जमीन

कंपनी की ओर से गीडा के साथ ही कंपनी को 15 एकड़ जमीन और दी जाएगी। जमीन मिलने के साथ ही निवेश और बढ़ सकता है। कुल निवेश करीब 1500 करोड़ रुपये तक पहुंच सकता है। कंपनी ने गीडा के साथ ही इंवेस्ट यूपी में भी आवेदन किया था। इंवेस्ट यूपी की ओर से फास्ट ट्रैक माध्यम से जमीन आवंटित करने को कहा गया। इस माध्यम से जमीन देते समय विज्ञापन निकालकर आवेदन लेने की जरूरत नहीं होती। जमीन सीधे कंपनी को आवंटित कर दी जाती है। ‘सुपर मेगा इंवेस्टमेंट’ श्रेणी में होने के कारण इस निवेश के लिए फास्ट ट्रैक माध्यम से जमीन दी जा रही है।

कंपनी में तैयार होंगे ये उत्पाद

पेप्सिको के सभी बेवरेज उत्पाद इस कंपनी में तैयार होंगे। कार्बोनेटेड साफ्ट ड्रिंक जैसे पेप्सी, सेवेन अप, माउंटेन ड्यू, मिरिंडा, ट्रापिकाना फ्रूट जूस, एक्वाफिना पानी आदि का उत्पादन होगा। इसके साथ ही मिल्क बेस्ड ड्रिंक, वैल्यु एडेड डेयरी प्रोडक्ट, एवं ड्रिंक के लिए बोतल का उत्पादन किया जाएगा। भविष्य में यहां चिप्स आदि का भी उत्पादन हो सकता है।

Note : तस्वीर काल्पनिक है।

Latest Posts

Don't Miss