Latest Posts

यूपी के इस शहर मे सबनेगा देश का पहला डबल डेकर एक्सप्रेस-वे, कई शहरों के लोगों को मिलेगा फायदा

नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे पर लगातार यातायात का दबाव बढ़ रहा है। इससे जाम की स्थिति बनती जा रही है। आने वाले समय में जेवर में नोएडा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा बनने के इस रास्ते यातायात जाम की स्थित विकराल रूप ले सकती है। लोगों को भविष्य में होने वाली परेशानी से बचाने को नोएडा प्राधिकरण ने काम शुरू कर दिया है।

2000 करोड़ रुपये आएगा खर्च

नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे पर दो हजार करोड़ रुपये की लागत से एक नया एलिवेटेड एक्सप्रेस-वे बनाया जाने की तैयारी है। यह देश का पहला डबल डेकर एक्सप्रेस-वे होगा। एलिवेटेड एक्सप्रेस-वे को छह लेन या आठ लेन का बनाया जाए, यह निर्णय लिया जाना बाकी है।

कई शहरों के लोगों को मिलेगी कनेक्टिविटी

इस एलिवेटेड एक्सप्रेस-वे को दिल्ली की तरफ से आने वाले चिल्ला रेग्यूलेटर पर प्रस्तावित चिल्ला फ्लाईओवर को महामाया के पास जोड़ा जाएगा। एलिवेटेड एक्सप्रेस-वे पर डीएनडी, चिल्ला, कालिंदी कुंज की ओर से जेवर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा, आगरा व लखनऊ की ओर से आने जाने वाले वाहनों को सीधे यमुना एक्सप्रेस-वे से कनेक्टिविटी मिलेगी।

प्रस्ताव को रखा जा सकता है बोर्ड बैठक में

एक किलोमीटर एलिवेटेड रोड तैयार करने में करीब सौ करोड़ रुपये का खर्च आता है। इस परियोजना पर अनुमानित लागत दो हजार करोड़ रुपये आसपास खर्च हो सकती है। परियोजना पर अंतिम मुहर लगती है तो इसका प्रस्ताव जल्द बोर्ड बैठक में प्रस्तुत किया जाएगा। वर्क सर्किल दस वरिष्ठ प्रबंधक केबी सिंह ने बताया कि एक्सप्रेस-वे पर बढ़ने वाले यातायात भार को कम करने के लिए विकल्प को तलाशा जा रहा है।

डीएससी के विकल्प के रूप में बना था एक्सप्रेस-वे

नोएडा को ग्रेटर नोएडा को आपस में जोड़ने के लिए बीस वर्ष पहले सिर्फ दादरी सूरजपुर छलेरा (डीएससी) रोड ही था। दोनों शहर को आपस में जोड़ने के लिए नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे छह लेन बनाया गया है। जो 24.53 किलोमीटर लंबा है। वर्ष 2002 में शुरू हुआ था। इसे बनाने के लिए 400 करोड़ रुपये खर्च हुए थे। अक्टूबर 2010 में दिल्ली-एनसीआर ने कामनवेल्थ गेम्स के आयोजन की इस एक्सप्रेस-वे की मेजबानी कर चुका है।

एनएचएआइ का मिल रहा मार्गदर्शन

नया एलिवेटेड एक्सपेस-वे तैयार करने में राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआइ) से मार्गदर्शन मिल रहा है। जिस जगह से एलिवेेटेड एक्सप्रेस-वे को शुरू किया जाएगा और चिल्ला एलिवेटेड से जोड़ा जाएगा, वहां से थोड़ी ही दूर पर कालिंदी कुंज के आगे दिल्ली मुंबई एक्सप्रेस-वे का लूप उतर चढ़ रहा है। ऐसे में यहां से भी जेवर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा के लिए हरियाणा के फरीदाबाद, गुरुग्राम समेत अन्य शहरों को बेहतर कनेक्टिविटी मिलेगी।

Note : तस्वीर काल्पनिक है ।

Latest Posts

Don't Miss