Latest Posts

यूपी में युवाओं को रोजगार देने के लिए योगी सरकार ने बनाया यह खास प्लान,एक साल के भीतर लगेंगे 12 बड़े प्रोजेक्ट

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के द्वारा लगातार लोगों को रोजगार देने का प्रयास किया जा रहा है। सरकार के द्वारा उत्तर प्रदेश में बेरोजगारी दर कम करने और युवाओं को रोजगार देने का प्रयास किया जा रहा है।

सूबे में औद्योगिक विकास को बढ़ावा देकर रोजगार के नए अवसर तलाश किए जा रहे हैं। इसी कड़ी में योगी सरकार आगामी 12 महीने में 12 बड़ी परियोजनाओं के साथ 1 लाख 20 हजार लोगों को रोजगार देने का लक्ष्य रखा है।

बताया जा रहा है कि तीन जून को लखनऊ में होने वाली तीसरी ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी के दौरान इसकी आधाशिला रखी जाएगी। इसके बाद साल भर के भीतर ये सभी परियोजनाएं पूरी होने की उम्मीद है। यही वजह है कि सरकार फूंक-फूंककर कदम रख रही है और जमीन का इंतजाम करने में सक्षम प्रोजेक्ट्स का ही शिलान्यास किया जाएगा।

दरअसल, औद्योगिक विकास विभाग 75 हजार करोड़ रुपये के 1500 प्रोजेक्ट्स का शिलान्यास कराने का प्रयास कर रहा है। हालांकि ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी में केवल उन्हीं प्रोजेक्ट्स को शामिल किया जाएगा, जो जमीन मिलने के साथ एनओसी समेत अन्य सभी औपचारिकता शासन की ओर से पूरा कर सकेंगे। सरकार का इरादा है ऐसे प्रोजेक्ट्स को जल्द से जल्द पूर्ण कर उनका उद्घाटन किया जाए। सरकार को उम्मीद है कि एक साल में दर्जनभर से अधिक प्रोजेक्ट शुरू होने से 1 लाख 20 हजार से अधिक लोगों को रोजगार मिलेगा।

आगरा-कानपुर में फ्लैटेड फैक्ट्री
बताया जा रहा है कि यूपीसीडा की ओर से 462 करोड़ रुपये का निवेश करने वाले 8 वेयरहाउस प्रोजेक्ट्स को भूमि उपलब्ध कराई गई है। इनमें पांच लखनऊ और एक उन्नाव में है। आगरा, कानपुर और गोरखपुर में फ्लैटेड फैक्ट्री काम्प्लेक्स के लिए 200 करोड़ रुपये खर्च हो रहे हैं। इसके साथ ही यूपी में अब लगातार वस्त्रों, होजरी की छह और नई फैक्ट्रियां खुलेंगी। इसी साल इनमें उत्पादन शुरू हो जाएगा और करीब 15 हजार कारीगरों और श्रमिकों को रोजगार मिल सकेगा।

वेस्ट यूपी में ये बड़े ग्रुप करने जा रहे निवेश
बता दें कि गाजियाबाद में जर्मनी की कंपनी वाइका इंस्ट्रूमेंट ने प्रोजेक्ट लगाने के लिए जमीन ले ली है। यूके की वेब्ले स्कॉट कंपनी हरदोई में अपना प्लांट लगा रही है। इसी तरह ब्रिटानिया, डिक्सान कंपनियों के प्रोजेक्ट का काम भी चल रहा है। इसके अलावा आईटी, खाद्य प्रसंस्करण, कम्प्यूटर सॉफ्टवेयर, मोबाइल, ऑटोमोबाइल, इंफ्रास्ट्रक्चर, दवा और रसायन व पर्यटन क्षेत्रों में भी परियोजनाओं की आधारशिला रखी जानी है।

Latest Posts

Don't Miss