Latest Posts

यूपी से चलने वाली कई ट्रेनों का संचालन प्रभावित, इन ट्रेनों के रूट मे किया गया बदलाव

पूर्वोत्तर रेलवे के वाराणसी मंडल स्थित औड़िहार-सादात खंड पर इंजीनियरिंग कार्य चल रहा है। इसके चलते विभिन्न तिथियों में कुछ ट्रेनों का संचालन प्रभावित रहेगा। मुख्य जनसंपर्क अधिकारी पंकज कुमार सिंह के अनुसार 27 अगस्त को गोरखपुर के रास्ते लखनऊ जंक्शन से चलने वाली 15008 लखनऊ जं वाराणसी सिटी कृषक एक्सप्रेस मऊ में ही रुक जाएगी। 28 अगस्त को वाराणसी सिटी से चलने वाली 15007 वाराणसी सिटी- लखनऊ जं कृषक एक्सप्रेस मऊ से चलाई जाएगी।

यह ट्रेनें भी रहेंगी प्रभावित

इसके अलावा 28 अगस्त को ही 15130 नंबर की वाराणसी सिटी-गोरखपुर एक्सप्रेस 210 मिनट विलंब से चलेगी। 28 अगस्त को चलने वाली 15129 गोरखपुर-वाराणसी सिटी एक्सप्रेस रास्ते में 90 मिनट, 14005 सीतामढ़ी-आनन्द बिहार टर्मिनस एक्सप्रेस पूर्वोत्तर रेलवे में 90 मिनट, 27 अगस्त को चलने वाली 19489 अहमदाबाद-गोरखपुर एक्सप्रेस उत्तर रेलवे में 90 तथा पूर्वोत्तर रेलवे में 30 मिनट तथा 15017 लोकमान्य तिलक टर्मिनस- गोरखपुर एक्सप्रेस उत्तर रेलवे में 60 मिनट तथा पूर्वोत्तर रेलवे में 30 मिनट नियंत्रित कर चलाई जाएगी।

कमाल कर रहीं रेलवे की एचएचटी मशीनें, स्वत: कन्फर्म हो रहे टिकट

रेलवे की एचएचटी मशीनें कमाल कर रही हैं। गोरखधाम, हमसफर, अमरनाथ, इंटरसिटी और राप्तीसागर एक्सप्रेस सहित दर्जन भर ट्रेनों के वेटिंग और आरएसी टिकट आटोमेटिक कन्फर्म हो जा रहे हैं। पूर्वोत्तर रेलवे के गोरखपुर पूर्व (वाराणसी मंडल) के बाद गोरखपुर पश्चिम (लखनऊ मंडल) के टिकट चेकिंग स्टाफ (टीटीई) भी हैंड हेल्ड टर्मिनल (एचएचटी) लेकर चलने लगे हैं। रेलवे बोर्ड ने पूर्वोत्तर रेलवे रूट पर चलने वाली सभी ट्रेनों में एचएचटी अनिवार्य रूप से लागू करने का दिशा-निर्देश जारी कर दिया है।

मोबाइल का भी काम करेगा एचएचटी, कटेगा टिकट व जुर्माना

एचएचटी का सिस्टम रेल टेल के नेटवर्क फोर जी से चलेगा। टीटीई एचएचटी का उपयोग मोबाइल के रूप में भी कर सकेंगे। एचएचटी के साथ प्रत्येक टीटीई के नाम पर सिम भी मिला है। इसके अलावा एचएचटी से टिकट और जुर्माना भी बनने लगेगा। एचएचटी फर्जीवाड़ा पर भी रोक लगाएगा। आशंका होने पर एचएचटी से ही असली और नकली टिकट की जांच भी हो जाएगी। टीटीई किस ट्रेन में सफर कर रहे हैं, कितना टिकट और जुर्माना बनाए हैं। दफ्तर में बैठे अफसरों को सूचना मिलती रहेगी। किराया और जुर्माने का पैसा सीधे रेलवे से संबद्ध बैंक के एकाउंट में चला जाएगा।

Latest Posts

Don't Miss