उत्तर प्रदेश में जल्द बुलेट ट्रेन का संचालन शुरू हो जाएगा। आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट बुलेट ट्रेन चलाने की कवायद शुरू की जा चुकी है। बनारसी से दिल्ली के बीच बुलेट ट्रेन चलाने का काम बहुत जल्द शुरू होने वाला है, क्योंकि इसके लिए डीपीआर तैयार करने का काम शुरू कर दिया गया है।

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र में बुलेट ट्रेन चलाने का काम जोरों शोरों से चल रहा है। जल्दी इस प्रोजेक्ट को धरातल पर उतारा जाएगा। जानकारी के लिए बता दे कि 6 महीना के मेहनत के बाद बुलेट ट्रेन चलाने की डीपीआर को लगभग तैयार कर लिया गया है।

नौ नवंबर को मुकम्मल रिपोर्ट रेल मंत्रालय को सौंप दी गई है। बता दे कि शासनादेश मिलने के तुरंत बाद बनाती जिले के जिला प्रशासन ने भूमि अधिग्रहण का कार्य शुरू कर दिया है।

भारतीय रेलवे के उपक्रम एनएचएसआरसीएल (नेशनल हाई स्पीड रेल कारिडोर लिमिटेड) ने डीपीआर तैयार की है। बता दे कि पूर्वी रेलवे के ज्ञानपुर ट्रैक के पास से बुलेट ट्रेन चलाने के लिए कॉरिडोर निर्माण का कार्य किया जाएगा। यह कोरिडोर लगभग वाराणसी के 22 गांव से गुजरेगा।

इसके लिए 30 गांवों की कुल 100 हेक्टेअर भूमि की दरकार होगी। पूर्वोत्तर रेलवे के ज्ञानपुर ट्रैक के किनारे हाई स्पीड कारिडोर निर्माण के लिए जमीन की तलाश पूरी हो गई है। अब भूमि अधिग्रहण की कवायद की जानी शेष है जिसकी प्रक्रिया प्रारंभ करने का इंतजार जिला प्रशासन की ओर से किया जा रहा है।

केंद्र सरकार ने उत्तर प्रदेश के 4 जिलों से बुलेट ट्रेन चलाने का आदेश जारी किया है। बुलेट ट्रेन चलाए जाने से उत्तर प्रदेश के पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा और साथ ही साथ उत्तर प्रदेश में रोजगार के अवसरों में भी बढ़ोतरी होगी।