Latest Posts

सरकारी स्कूल के शिक्षक नहीं कर पाएंगे पढ़ाने में लापरवाही, बच्चों के साथ-साथ शिक्षकों के लिए निगरानी करेगी टास्क फाॅर्स

बच्चों के शिक्षा के गुणवत्ता में सुधार करने के लिए और बच्चों की प्रतिस्पर्धा बनाने के लिए निपुण भारत अभियान की शुरुआत की गई है। इस अभियान के तहत जिलाधिकारी व खंड शिक्षा अधिकारी की अध्यक्षता में टीमें गठित की जानी है।

आपको बता दें कि टीम के गठन होने के बाद प्राथमिक विद्यालय में पढ़ने वाले छात्र छात्राओं के निगरानी के लिए तीन स्तरीय टास्क फोर्स गठित की जाएगी।

बेसिक शिक्षा विभाग के अधिकारियों के मुताबिक निपुण भारत योजना के तहत कक्षा एक से तीन तक के बच्चों की भाषा व गणित विषय की नींव मजबूत करने के लिए लगातार प्रयास जारी है।

बता दे कि प्राथमिक शिक्षकों को इस मिशन के जरिए प्रशिक्षित किया जाएगा और साथ ही साथ बेसिक शिक्षा व्यवस्था में सुधार लाने के लिए भी कई तरह के प्रयत्न किए जाएंगे।

जिला स्तर पर डीएम व ब्लाकों में खंड शिक्षा अधिकारियों की अध्यक्षता में टीमें गठित की जानी है।

इसके तहत विभाग के अधिकारी व शिक्षक अभिभावकों व समाज में प्रचार-प्रसार करेंगे। पोस्टर, वार्तालाप, गणित किट, कार्य पुस्तिका के माध्यम से कक्षा कक्ष में लागू किया जाएगा। विद्यार्थियों को घर पर सीखने के लिए दीक्षा पोर्टल पर 6500 से अधिक शैक्षणिक वीडियो अपलोड की गयी है। प्रोफेशनल डेवलपमेंट के तहत शिक्षकों को प्रशिक्षित कराया जा रहा है। एनसीईआरटी के माध्यम से हर स्कूल में करीब 500 से अधिक उच्च गुणवत्ता की किताबें उपलब्ध हैं। हर विद्यालय में 22 सप्ताह की विशेष शिक्षण योजना भी लागू की जा रही है। बच्चों में प्रतिस्पर्धा की भावना बढ़ाने के साथ ही थर्ड पार्टी मूल्यांकन होगा।

Latest Posts

Don't Miss