होली में अक्सर ऐसा देखने को मिलता है की ट्रेनों में भीड़ काफी ज्यादा बढ़ जाती है और साथ ही साथ लोगों की परेशानियां बढ़ने लगती है क्योंकि वेटिंग लिस्ट काफी ज्यादा बढ़ जाता है.होली का त्योहार परिवार वालों के साथ मनाने में यदि रेलवे आरक्षण बाधा बन रहा तो अब परेशान न हों.

यह खबर उन सभी लोगों के लिए खास है जिन्हें होली में घर जाने के लिए कंफर्म बर्थ नही मिल रहा है.रेल प्रशासन ने अधिक से अधिक यात्रियों को बर्थ उपलब्ध कराने के लिए ट्रेनों में अतिरिक्त कोच लगाना शुरू कर दिया है उपासना एक्सप्रेस समेत तीन ट्रेनों में अतिरिक्त कोच लगा दिए गए है.

कोरोना संक्रमण के बाद ट्रेनों में कंफर्म बर्थ वाले यात्रियों को चलने की अनुमति है. जिससे वेटिंग टिकट वाले यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ता है.रेलवे प्रशासन जिस ट्रेन में 24 कोच से कम कोच लगे हुए हैं, उन सभी ट्रेनों में धीरे-धीरे कोच बढ़ाना शुरू कर दिया है.जिससे अधिक से अधिक यात्री को बर्थ उपलब्ध हो सके.वर्तमान में मुरादाबाद होकर गुजरने वाली देहरादून-हावड़ा के बीच चलने वाली उपासना व कुंभ एक्सप्रेस में 17 कोच से बढ़ाकर 18 कोच कर दिया है. इसके अलावा देहरादून-गोरखपुर-मुजफ्फरपुर राप्ती गंगा एक्सप्रेस में 14 से बढ़ाकर 17 कोच कर दिया है.

रेल प्रशासन को जैसे जैस कोच उपलब्ध होंगे वैसे वैसे ट्रेनों में कोच की संख्या बढ़ाएगा। रेल प्रशासन ट्रेनों में पुराने कोच के स्थान पर लिंक हाफमेन बुश कोच भी लगा रहे हैं. एलएचबी कोच के एसी थ्री व स्लीपर में पुराने कोच से आठ बर्थ अधिक होते हैं। इसी तरह से जनरल बोगी व एसी टू में भी अधिक यात्रियों के लिए सीट व बर्थ उपलब्ध है पुराने कोच को बदलते ही सीट की संख्या बढ़ जाएगी.कोच मिलने पर आला हजरत, जनता एक्सप्रेस प्रमुख रुप से शामिल है.

होली में घर जाने वाले लोग इस साल आसानी से अपने घरों को जा पाएंगे क्योंकि रेलवे ने इसके लिए खास व्यवस्था कर दिया है. अब घर जाने में त्योहार के दिनों में परेशानी नहीं होगी.