Latest Posts

UP:जिस कुत्ते को अपने बच्चे जैसा पाला,जान लुटाती थी यूपी की रिटायर्ड टीचर,उसी पिटबुल डॉग में नोचकर शिक्षिका को मार डाला

कुत्‍ते आमतौर पर वफादार माने जाते हैं लेकिन लखनऊ में बुजुर्ग सुशीला को जिस तरह एक पालतू कुत्‍ते ने मौत के घाट उतार दिया उससे बंगाली टोले में हर कोई हैरान है। बुजुर्ग सुशीला जिस पालतू कुत्ते जान लुटाती थीं, बच्चों की तरह ख्याल रखती थीं, रोज उसे टहलाती और खाना देती थीं, उसी ने उन्हें निवाला बना लिया। घटना से हैरान पड़ोसी भी बस यही कहते रहे कि आखिर वह कैसे इतना ख्याल रखने वाली सुशीला पर हमलावर हो गया।

News:वफ़ादारी भुला कुत्ता

पड़ोसी बताते हैं कि सुशीला जिस तरह से पिटबुल का ध्यान रखती थी, उसे कोई नहीं रख सकता। अमित के मुताबिक बच्चों की तरह दोनों पालतू कुत्तों को दुलराती रहती थी। हर कोई यही चर्चा कर रहा था कि पिटबुल इतना हमलावर कैसे हो गया।

एसी कमरे में रहते हैं दोनों श्वान
अमित ने बताया कि घर के पिटबुल और लैब्राडोर नस्ल के कुत्ते एसी कमरे में रहते हैं। उनके लिये अलग से एसी लगवाया था। पिटबुल तो पूरे समय एसी कमरे में ही रहता था, बस छत पर जाते समय ही बिना एसी के रहता था।

बीमार होने पर परेशान हो जाती थी
पड़ोसियों ने बताया कि दोनों श्वानों को कुछ हो जाता था तो वह काफी परेशान हो जाती थी। बेटे से तुरन्त डॉक्टर को दिखाने की जिद करने लगती थी। समय से खाना खिलाना, टहलाना और उससे खेलना दिनचर्या का हिस्सा था। सुशीला को गम्भीर रूप से घायल करने के बाद जब अमित घर पहुंचा तो पिटबुल कोने में दुबका मिला। वह अमित के पास तो गया लेकिन शांत रहा। वह ऐसा व्यवहार कर रहा था, जैसे गलती हो गई है…। मां को अस्पताल ले जाने से पहले दोनों श्वानों को छत पर बांध दिया गया था।

घरेलू सहायिका के सामने तड़पते हुए उखड़ गया दम

सुशीला पर जब पिटबुल ने हमला किया तो उस समय वहां सिर्फ नौकरानी ही थी। अमित सूचना मिलते ही पहुंचा। वह पड़ोसियों की मदद से मां को बलरामपुर अस्पताल ले गया जहां से उन्हें ट्रॉमा सेंटर भेज दिया गया। ट्रॉमा में डॉक्टरों ने इलाज शुरू किया लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका। कुछ देर बाद ही उनकी मौत हो गई।

रहें सचेत

शहर में तमाम लोग कुत्ता पाले हुए हैं। लेकिन इनकी देख रेख में सावधानी नहीं बरतते। इसकी वजह से वह कभी कभी खुद ही कुत्ते का शिकार बन जाते हैं। कभी बच्चों को कुत्ते काट लेते हैं तो कभी परिवार के अन्य सदस्यों को। नगर निगम के संयुक्त निदेश पशु कल्याण व विशेषज्ञ चिकित्सक डॉ. अरविन्द राव कुत्ता पालने वालों के लिए कुछ सुझाव देते हैं। इन पर अमल कर कुत्तों से बचा जा सकता है।

Latest Posts

Don't Miss