Latest Posts

UP का एक ऐसा शहर जहां बारिश आते ही लोग अपने हाथों से तोड़ देते हैं अपना पक्का मकान,जाने वजह

वैसे तो एक मकान बनाने में पूरी जिंदगी भर की कमाई लग जाती है लेकिन जब आपको अपना ही मकान अपने हाथ से तोड़ना पड़े तो कैसा लगेगा।

आज हम आपको उत्तर प्रदेश के एक ऐसे शहर के बारे में बताने वाले हैं जहां बारिश आते ही लोग अपना पक्का मकान अपने हाथों से तोड़ने लगते हैं।

वजह हैरान कर देनी वाली है। मामला लखीमपुर खीरी जिले का है। दरसअल धौरहरा तहसील के मिर्जापुर गांव में घाघरा नदी ने कटान तेज कर दिया है। खेतों को काटती हुई घाघरा अब आबादी की उन जगहों को काट रही है। धौरहरा में शारदा और चौका नदियों का जलस्तर बढ़ गया है।

जिससे फसलें जलमग्न हो गई हैं, मकान पानी में न बह जाएं इसको लेकर ग्रामीण अपने पक्के आशियाने को तोड़ने में जुट गए हैं।

मिर्जापुर गांव में घाघरा नदी कटान करती हुई अब गांव की तरफ बढ़ गई है इस कारण से कई घर उसके जद में आ गए हैं और घर बह गए हैं।

कटान की जद में आकर मुनीर,सलीम, नाजिम,मोइनुद्दीन,मोहम्मद यार,छोटकन्ना,इनाम, खुर्शीद, दाऊद, अकबाल, इश्तियाक, बांके, पैरू,अशोक, चन्द्रबली,राजेन्द्र,लछिमन,रामू सहित कई ग्रामीणों ने अपने घर उजाड़कर जमीनें खाली दी थीं।

शुक्रवार को घाघरा नदी इन जमीनों का कटान शुरू कर दी और कटान करते-करते घर में पहुंच गई। आपको बता दें कि लगातार होने वाली कटाई से अब जनता में डर का माहौल सा बन गया है।

उधर शारदा और उसकी सहायक चौका नदी का जलस्तर बढ़ा हुआ है। गुरुवार/शुक्रवार की रात पानी का स्तर तेज़ी से बढ़ गया। शारदा नदी पर बने तटबंध के बीच के और नेशनल हाइवे 730 के किनारे के खेतों में बाढ़ का पानी भर गया है।

Latest Posts

Don't Miss